रिलायंस ने किया मेट्रो का अधिग्रहण:कंपनी को 31 लार्ज फॉर्मेट स्टोर का एक्सेस मिलेगा, 2,850 करोड़ रुपए में हुई डील

Total Views : 22
Zoom In Zoom Out Read Later Print

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) की सहायक कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (RRVL) 2,850 करोड़ रुपए में फूड होलसेलर मेट्रो कैश एंड कैरी का अधिग्रहण करने जा रही है। इसके लिए एग्रीमेंट साइन किए गए हैं और रेगुलेटरी अप्रूवल के बाद मार्च 2023 तक इस डील के पूरी होने की संभावना है। जर्मनी की इस कंपनी ने 2003 में भारत में अपने ऑपरेशन शुरू किए थे और कैश-एंड-कैरी बिजनेस फॉर्मेट पेश किया था।

प्राइम लोकेशन स्टोर का मिलेगा एक्सेस
इस अधिग्रहण से रिलायंस रिटेल को दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोलकाता, अमृतसर, अहमदाबाद, सूरत, इंदौर, मेरठ, लखनऊ, नासिक, विशाखापट्टनम, गुंटूर, विजयवाड़ा, तुमकुरु, गाजियाबाद और हुबली में मेट्रो के प्राइम लोकेशन पर मौजूद स्टोर का एक्सेस मिल जाएगा। डील के हिस्से के रूप में रिलायंस रिटेल को रजिस्टर्ड किराना स्टोर, संस्थागत ग्राहकों और एक मजबूत सप्लायर नेटवर्क का बड़ा बेस भी मिलेगा।कंपनी के 31 लार्ज फॉर्मेट स्टोर

इसके साथ, RRVL को मेट्रो के HoReCa (होटल, रेस्तरां और कैटरर्स) ग्राहकों के नेटवर्क तक भी पहुंच मिलेगी। इस इंटरनेशनल फूड होलसेलर के देश के 21 शहरों में लगभग 3,500 एम्प्लॉइज के साथ 31 लार्ज फॉर्मेट स्टोर हैं। अभी तक FY22 में मेट्रो इंडिया ने 29.8 मिलियन यूरो की बिक्री की है। इस अधिग्रहण से रिलायंस रिटेल के फिजिकल स्टोर फुटप्रिंट को और मजबूती मिलेगी।

छोटे व्यवसायों की मदद करेगा
रिलायंस रिटेल वेंचर्स की डायरेक्टर ईशा अंबानी ने कहा, 'मेट्रो इंडिया भारतीय बी2बी बाजार में अग्रणी और प्रमुख खिलाड़ी है और इसने मजबूत ग्राहक अनुभव देने के लिए एक ठोस मल्टी-चैनल प्लेटफॉर्म बनाया है। हमारा मानना ​​है कि भारतीय व्यापारी/किराना इको-सिस्टम की हमारी गहरी समझ और मेट्रो इंडिया के हेल्दी एसेट भारत में छोटे व्यवसायों की मदद करेगा।'

RRVL का नेटवर्क बढ़ेगा
METRO कैश एंड कैरी इंडिया के अधिग्रहण से RRVL का नेटवर्क और भी बड़ा हो जाएगा। इसके पोर्टफोलियो में पहले से ही जियोमार्ट, आजियो, नेटमेड्स, और जिवामे जैसे अन्य ओमनीचैनल बिजनेस हैं। RRVL का 31 मार्च, 2022 को समाप्त वित्त वर्ष में लगभग 1,99,704 करोड़ रुपए का कंसॉलिडेटेड टर्नओवर और लगभग 7,055 करोड़ रुपए का नेट प्रॉफिट था।