कोविड अलर्ट के बाद स्वास्थ्य मंत्री का पहला इंटरव्यू:बोले- देश में जरूरी पाबंदियां आज से, वायरस और खतरनाक हो रहा

Total Views : 26
Zoom In Zoom Out Read Later Print

कोविड को लेकर देश में आज से, यानी गुरुवार से ही पाबंदी शुरू होने वाली है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने ये जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि हम लापरवाह नहीं हो सकते, तत्काल एक्शन लेना होगा।

भास्कर को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में मंडाविया ने बताया कि चीन की हालत तो बेहद खराब है। साथ ही उन्होंने भरोसा जताया कि पिछली बार भी हमने बाकी देशों के मुकाबले कोविड को बेहतर तरीके से हैंडल किया था। हमारे पास अनुभव है इसलिए इस बार भी अच्छे से हैंडल कर लेंगे।

उन्होंने कहा कि चीन में श्मशानों पर भीड़ है। दूसरी लहर में भी भारत की स्थिति इतनी खराब नहीं हुई थी, जितनी चीन की अब हो गई है। वहां जिस वायरस ने कहर बरपाया है, वो और ज्यादा खतरनाक हो रहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू...

भास्कर: क्या सरकार कोरोना को लेकर देश में नई पाबंदियां लागू करने जा रही है?
मांडविया: 
हां। हम देश में गुरुवार से ही जरूरी पाबंदियां लगाना शुरू कर रहे हैं। विदेश से आने वाले यात्रियों का कोरोना टेस्ट किया जाएगा। एयरपोर्ट पर रैंडम चेकिंग भी की जाएगी। इस बार भी हम वैसे ही काम करेंगे, जैसा हमने इससे पहले कोविड को हैंडल करने के लिए किया था।

भास्कर: देश में कोरोना को लेकर कैसे हालात हैं?
मांडविया: 
भारत को घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन गंभीरता बेहद जरूरी है। हमें अब हर स्तर पर सतर्क रहना होगा।

भास्कर: पिछली बार की तरह क्या आपको लगता है कि वायरस चीन-अमेरिका-अफ्रीका-यूरोप के रास्ते भारत आ सकता है?
मांडविया: 
हां, बिल्कुल आ सकता है। इसलिए हम वायरस को ट्रैक कर रहे हैं। एयरपोर्ट पर जांच शुरू करने का फैसला इसी वजह से किया गया है। वायरस कैसे अपना रूप बदल रहा है और इसका क्या असर हो रहा है, इसकी सटीक जानकारी हमें है।

मांडविया: यह पुराना मामला है, लेकिन भारत में इस तरह के केस आ रहे हैं, ये बात भी सच है। एक और बात नोटिस की गई है कि BF-7 वैरिएंट भी म्यूटेट कर रहा है। ये बात ज्यादा खतरनाक कही जा सकती है। इस वैरिएंट के मामले भारत में पहले भी सामने आ चुके हैं। ये मामले समय-समय पर पाए गए हैं, लेकिन अच्छी बात यह है कि ये फैले नहीं हैं।

भास्कर: गुजरात समेत देश के बाकी राज्यों की मौजूदा स्थिति के बारे में क्या कहेंगे?
मांडविया: 
गुजरात समेत हर राज्य को अलर्ट रहना होगा। किसी एक राज्य के संबंध में इस पर बात नहीं की जा सकती है। देश में अभी मामले बढ़ने शुरू नहीं हुए हैं। लेकिन हो सकते हैं। लिहाजा गुजरात सहित सभी राज्यों को भी अलर्ट रहना होगा।

भास्कर: कोरोना के बदलते रूपों को समझने के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग को बढ़ाएंगे क्या?
मांडविया: 
इस पर केंद्र सरकार की समीक्षा बैठक जल्द ही होने वाली है। इसके अलावा सचिव स्तर पर राज्यों के साथ बैठकें शुरू की गई हैं। हम सभी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक कर ट्रेसिंग, इलाज, जीनोम सीक्वेंसिंग (किस वैरिएंट से कोविड हुआ है) पर जोर देंगे। फिलहाल, सभी राज्यों को जीनोम सीक्वेंसिंग बढ़ाने के लिए अलर्ट कर दिया गया है।मांडविया: चीन की वैक्सीन फेल हो गई है। चीन ने लंबे समय से जीरो कोविड नीति लागू की थी। दो साल तक लोगों को घर में रखा गया। लोग बाहर नहीं निकल रहे थे और थके हुए थे। अब बहुत ठंड है। फिलहाल, अस्पताल में जगह नहीं है। अस्पताल में भर्ती कराने के लिए सड़क पर चार घंटे लाइन लगी रहती है। लाइन में लगे लोग अलग मर रहे हैं और अस्पताल में जो भर्ती हैं, वो अलग से मर रहे हैं।

भास्कर: क्या चीन में भी वैसी ही स्थिति है जैसी दूसरी लहर में थी?

मांडविया: नहीं, दूसरी लहर में भी हमारी स्थिति बेहतर थी। चीन के हालात अभी उससे भी खराब हैं। लोग मर रहे हैं।

मांडविया: हां, बिल्कुल। हालांकि इसे और देखना है।

भास्कर: हम अब कैसे काम करेंगे?

मांडविया: हमने दुनिया के अन्य देशों की तुलना में कोविड को बेहतर तरीके से हैंडल किया है। हमारे पास इसका अनुभव है और हमारे पास इसकी वैक्सीन भी है। हम जरूरत के मुताबिक तत्काल कार्रवाई करेंगे। अभी के हालात और पुराने तजुर्बे को ध्यान में रखते हुए हम लापरवाह नहीं हो सकते।चीन में एक बार फिर अस्पताल भरने लगे हैं। दवाएं खत्म हो रही हैं। सामूहिक अंतिम संस्कार किए जा रहे हैं। वजह है आग की तरह फैल रहा कोरोना वायरस। इतनी तेजी से फैल रहे संक्रमण के लिए जिम्मेदार है ओमिक्रॉन का वैरिएंट BF.7। WHO के अधिकारियों का कहना है कि ये अब तक का सबसे तेज फैलने वाला वैरिएंट हैचीन में कोरोना से लगातार हालात बिगड़ते जा रहे हैं। लोग दवा कंपनियों की फैक्ट्रियों के बाहर लाइनें लगा रहे हैं। जुहाई शहर का एक वीडिया सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। इसमें लोग दवाईयां खरीदने के लंबी कतारों में खड़े हुए देखे जा सकते हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन के सभी मेडिकल स्टोर से ब्रुफेन नाम की दवा खत्म हो गई है। जिसके कारण अब लोग फैक्ट्री तक पहुंचने लगे हैं। वहीं, पिछले 24 घंटे में पूरी दुनिया में कोरोना के 586,296 नए मामले सामने आए हैं।भारत में एक बार फिर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है। इसे देखते हुए केंद्र सरकार भी अलर्ट हो गई है। बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने सीनियर अधिकारियों और विशेषज्ञों के साथ बैठक की। जिनमें उन्होंने कहा कि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है।

वहीं, PM मोदी आज दोपहर कोरोना को लेकर समीक्षा बैठक करेंगे। इसके अलावा दिल्ली, UP, कर्नाटक, महाराष्ट्र में भी इमरजेंसी मीटिंग होगी। इस बीच अच्छी खबर यह है कि कोरोना के इलाज में काम आने वाली पैरासीटामॉल, एमोक्सीसिलिन और रेबेपैराजोल जैसी दवाओं के दाम कम होंगे। 

भारत में एक बार फिर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है। इसे देखते हुए केंद्र सरकार भी अलर्ट हो गई है। बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने सीनियर अधिकारियों और विशेषज्ञों के साथ बैठक की। जिनमें उन्होंने कहा कि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है।

वहीं, PM मोदी आज दोपहर कोरोना को लेकर समीक्षा बैठक करेंगे। इसके अलावा दिल्ली, UP, कर्नाटक, महाराष्ट्र में भी इमरजेंसी मीटिंग होगी। इस बीच अच्छी खबर यह है कि कोरोना के इलाज में काम आने वाली पैरासीटामॉल, एमोक्सीसिलिन और रेबेपैराजोल जैसी दवाओं के दाम कम होंगे।